Wednesday, March 12, 2014

कविता

Pastel by Meena

वक्त की सियाही में

तुम्हारी रोशनी को भरकर
समय की नोक पर रक्खे
शब्दों का कागज़ पर
कदम-कदम चलना।

एक नए वज़ूद को
मेरी कोख में रखकर
माहिर है कितना
इस कलम का
मेरी उँगलियों से मिलकर
तुम्हारे साथ-साथ 
यूँ सुलग सुलग चलना |

-©मीना चोपड़ा